मीडिया की भूमिका पर निबंध | Role of Media Essay in Hindi | Essay on Role of Media in Hindi

Role of Media Essay in Hindi :  इस लेख में हमने  मीडिया की भूमिका पर निबंध  के बारे में जानकारी प्रदान की है। यहाँ पर दी गई जानकारी बच्चों से लेकर प्रतियोगी परीक्षाओं के तैयारी करने वाले छात्रों के लिए उपयोगी साबित होगी।

{tocify} $title={विषय सूची}

 मीडिया की भूमिका पर निबंध: जनमत को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका के कारण मीडिया को लोकतंत्र के चौथे स्तंभ के रूप में जाना जाता है। आज इस अति आधुनिक दुनिया में मीडिया की भूमिका दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है। यह भारत के सतर्क प्रहरी के रूप में जीवित रहा है।

आप विभिन्न विषयों पर निबंध पढ़ सकते हैं।

मीडिया की भूमिका पर लंबा निबंध (500 शब्द)

प्रिंट मीडिया ने लोगों को उनके अधिकारों और कर्तव्यों के प्रति जागरूक किया है। हम केवल सुबह के अखबार को पढ़कर, दुनिया के कोने-कोने से हर तरह की खबरें प्राप्त करके खुद को अपडेट कर सकते हैं। इन सब की पूर्ति करते हुए, आज मास मीडिया अच्छी तरह से स्थापित है, जिसमें यह उल्लेखनीय है कि ऑल इंडिया रेडियो (AIR) अब 90% आबादी तक पहुँचता है, 80% से अधिक टीवी और 5,600 से अधिक समाचार पत्र, इनमें से 150 प्रकाशन प्रकाशित होते हैं प्रतिदिन 100 से अधिक भाषाओं में।

इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के उद्भव के बाद भी प्रिंट मीडिया का विश्वव्यापी विकास हुआ है। इसके अलावा, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया और इंटरनेट के उद्भव के बाद भी दुनिया भर में समाचार पत्रों के प्रसार में वृद्धि हुई है। किसी भी लोकतंत्र के संचालन में समाचार पत्र बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। हमारा संविधान भी हमें अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार देता है जो हमारे देश में स्वतंत्र प्रेस में प्रकट होता है। लोकतंत्र में समाचार पत्र लोगों को राजनीतिक और सामाजिक रूप से शिक्षित करने का सबसे अच्छा तरीका है। वे न केवल जनता को अद्यतन करने में बल्कि एक संतुलित जनमत तैयार करने में भी निर्णायक भूमिका निभाते हैं। जनता वर्तमान घटनाओं के बारे में पढ़ती है, उनकी व्याख्या करती है और देश के राजनीतिक, सामाजिक और आर्थिक मामलों में समझदारी से भाग लेना सीखती है।

समाचार पत्र जनमत को भी दर्शाते हैं, इस प्रकार संपादक को पत्रों के माध्यम से बनते हैं जो आमतौर पर एक अलग कॉलम में प्रकाशित होते हैं। इसके अलावा, प्रिंट मीडिया विभिन्न प्रकार की चीजों पर बड़ी संख्या में विज्ञापनों द्वारा व्यवसाय को बहुत प्रोत्साहन प्रदान करता है, जैसे कि बिक्री पर घर, दुकानें, इलेक्ट्रॉनिक सामान, स्टेशनरी, कपड़े की दुकान, कांच के बर्तन, क्रॉकरी की दुकानें आदि। वैवाहिक विज्ञापन, नौकरी- अवसर, श्रद्धांजलि सभी प्रिंट मीडिया के माध्यम से विज्ञापित हैं।

आजकल, सामाजिक संपर्क और प्रसार का एक और बहुत लोकप्रिय माध्यम जो प्रिंट मीडिया के साथ उभरा है, वह है इलेक्ट्रॉनिक मीडिया का उदय। इलेक्ट्रॉनिक मीडिया का जन्म रेडियो के आविष्कार के साथ हुआ, यह आगे टेलीविजन के माध्यम से, फिर लैपटॉप के माध्यम से, इंटरनेट के माध्यम से कंप्यूटर और अब हर हाथ में मोबाइल फोन के रूप में फैल गया। इलेक्ट्रॉनिक मीडिया का आज समाज पर बहुत प्रभावशाली और प्रेरक प्रभाव है। विभिन्न समाचार चैनल सतर्क नागरिकों को अपडेट रखते हैं। डिस्कवरी और नेशनल ज्योग्राफिक जैसे चैनल जिज्ञासु दिमाग को व्यस्त रखते हैं और जांच करने वाले दिमाग की हर बौद्धिक क्वेरी को संतुष्ट करते हैं। इनके साथ ही, दर्शकों का मनोरंजन करने और उन्हें गुदगुदाने के लिए अनगिनत मनोरंजन चैनल हैं। अब, समाज के इस विशेष वर्ग को पूरा करने के लिए काफी संख्या में किड्स चैनल आ गए हैं।

मीडिया में अपनी भूमिका के संदर्भ में इन दिनों इंटरनेट भी एक बड़ी गति प्राप्त कर रहा है। इसने बदले में समाज के लोकतांत्रिक जागरूकता के स्तर को बढ़ाया है जिसमें सभी आयु वर्ग और वर्गों के लोग सोशल नेटवर्किंग साइटों पर अपनी राय बनाते हैं। ऐसा इसलिए भी है क्योंकि इंटरनेट का इस्तेमाल कोई भी, कहीं भी, कभी भी आसानी से आर्थिक रूप से खुद को अभिव्यक्त करने के लिए कर सकता है। वास्तव में, इन दिनों कई स्वतंत्र वेबसाइटें स्थापित हैं जो संसद की गतिविधियों और समाज के अन्य महत्वपूर्ण कार्यों की निगरानी की उम्मीद करती हैं। इंटरनेट के सामने एकमात्र बड़ी कमी यह है कि इसका प्रसार सीमित है।

फिर भी, मीडिया का एक दूसरा पक्ष भी है, जिसमें यह जीवन की क्षणिक जरूरतों को पूरा करने और बौद्धिक स्तर को बनाए रखने के बजाय जनता की भावनाओं को आकर्षित करने का प्रयास करता है। वे नैतिक स्वर को भी कम करते हैं और अपने पाठकों को बढ़ाने के लिए घटिया सामग्री प्रकाशित करते हैं।

कई बार, समाचार पत्र निष्पक्षता बनाए रखने और कीचड़ उछालने या सांप्रदायिक प्रचार में लिप्त होने के बजाय खुद को किसी विशेष विचारधारा या पार्टी से जोड़ने की कोशिश करते हैं। आसान धन के लिए ये विचारहीन साधन मुट्ठी भर लोगों को अस्थायी वित्तीय लाभ प्रदान करते हैं लेकिन अंत में बड़े पैमाने पर समाज के लिए बेहद विनाशकारी साबित होते हैं।

मीडिया की भूमिका पर लघु निबंध (200 शब्द)

इस पेशे से जुड़े लोगों को अपनी बड़ी जिम्मेदारी और अपने कर्तव्य की पवित्रता का एहसास होना चाहिए। उन्हें अपनी अच्छी समझ को धूमिल करने के लिए व्यक्तिगत पूर्वाग्रह से बचना चाहिए। इसके बजाय, उन्हें सामाजिक बुराइयों, सांप्रदायिक ताकतों का मुकाबला करने की कोशिश करनी चाहिए और सरकार को अपने वादों के प्रति वचनबद्ध रखना चाहिए। इसे लोगों को राजनीतिक रूप से जागरूक बनाने और लोगों में देशभक्ति और राष्ट्रीय गौरव को जीवित रखने का प्रयास करना चाहिए। 

आज की दुनिया में मीडिया खाना और कपड़े जितना जरूरी हो गया है। पहले के समय में यह लोगों को स्वतंत्रता संग्राम के लिए एकजुट करती थी, आज यह लोगों को सामाजिक बुराइयों के खिलाफ एकजुट कर रही है। यह हमेशा एक महत्वपूर्ण हिस्सा रहा है। 

इसमें अपार शक्ति है जिसका सावधानीपूर्वक उपयोग करने की आवश्यकता है। इसके अलावा, यह भी देखा गया है कि मीडिया एक व्यावसायिक क्षेत्र में सिमट कर रह गया है, जिसकी निगाह उन खबरों पर है जो गर्म और बेचने में अच्छी हैं। लक्ष्य केवल टेलीविजन रेटिंग अंक हासिल करना है।

मेरा मानना ​​है कि अगर मीडिया अपनी जिम्मेदारी की पहचान करे और ईमानदारी और ईमानदारी से काम करे तो यह राष्ट्र निर्माण में एक बड़ी ताकत के रूप में काम कर सकता है।

मीडिया की भूमिका पर निबंध | Role of Media Essay in Hindi | Essay on Role of Media in Hindi

मीडिया की भूमिका पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न 1. मीडिया आपके अपने शब्दों में क्या है?
उत्तर: मीडिया शब्द संचार के किसी भी रूप को संदर्भित करता है जो सूचना प्रदान करता है । आम मीडिया आउटलेट में समाचार पत्र, रेडियो, टेलीविजन, पत्रिकाएं और इंटरनेट स्रोत जैसे ब्लॉग या ऑनलाइन प्रकाशन शामिल हैं।

प्रश्न 2.मीडिया से आप क्या समझते हैं?
उत्तर: भारत के संचार माध्यम (मीडिया) के अन्तर्गत टेलीविजन, रेडियो, सिनेमा, समाचार पत्र, पत्रिकाएँ, तथा अन्तरजालीय पृष्ठ आदि हैं। अधिकांश मीडिया निजी हाथों में है और बड़ी-बड़ी कम्पनियों द्वारा नियंत्रित है। भारत में 70,000 से अधिक समाचार पत्र हैं, 690 उपग्रह चैनेल हैं (जिनमें से 80 समाचार चैनेल हैं)।

प्रश्न 3.सोशल मीडिया की शुरुआत कब हुई?
उत्तर: साल 1997 में दुनिया का पहला सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म, Sixdegrees को लॉन्च किया गया था और इसकी स्थापना एंड्रयू वेनरिच ने की थी। इस वेबसाइट पर यूजर्स अपने फ्रेंड्स और फैमिली से जुड़े रह सकते थे और कई फीचर्स मिलते थे। हालांकि साल 2001 में Social Media Website को बंद कर दिया गया था।

प्रश्न 4.मीडिया रिपोर्टर कैसे बनते हैं?
उत्तर: अगर आप भी न्यूज़ रिपोर्टर बनना चाहते हैं, तो आप डिप्लोमा इन इलेक्ट्रॉनिक मीडिया या मास कॉम्युनिकेशन में डिग्री डिप्लोमा कोर्स कर इस फील्ड में प्रवेश कर सकते हैं। चूंकि न्यूज़ रिपोर्टिंग काफी आकर्षक फील्ड है। आज के समय में हमारे देश को अच्छे पत्रकारों की बहुत जरुरत है। हमारे देश में बहुत सारे अच्छे और निडर पत्रकार है।

इन्हें भी पढ़ें:-

विज्ञान और प्रौद्यौगिकी  विषय से सम्बंधित अन्य निबंध
विषय
इंटरनेट पर   निबंधकंप्यूटर की लत पर निबंध
इंटरनेट के   नुक्सान पर निबंधप्रौद्योगिकी की लत  पर निबंध
इंटरनेट के   उपयोग पर निबंधमोबाइल की लत पर निबंध
कंप्यूटर के  महत्व पर निबंधइंटरनेट की लत पर   निबंध
जीवन में  इन्टरनेट और कम्पुटर की भूमिका पर निबंधवीडियो गेम की लत पर  निबंध
प्रौद्यौगिकी   पर निबंधसाइबर सुरक्षा पर  निबंध
विज्ञान और  प्रौद्यौगिकी पर निबंधसोशल मीडिया की लत पर  निबंध
प्रौद्यौगिकी   के महत्व पर निबंधटीवी की लत पर निबंध
भारतीय  अन्तरिक्ष कार्यक्रम पर निबंधसाइबर अपराध पर निबंध
सोशल मीडिया के  फायदे और नुक्सानकंप्यूटर पर निबंध
साहित्यिक चोरी  पर निबंधटेलीफोन पर निबंध
इसरो पर निबंधUFO पर निबंध
विज्ञान पर   निबंधचंद्रमा पर जीवन के  बारे में निबंध
विज्ञान के  चमत्कार पर निबंधमोबाइल फोन के नुक्सान  पर निबंध
हमारे दैनिक  जीवन में टेलीविजन पर निबंधसुपर कंप्यूटर पर  निबंध
विज्ञान के   उपयोग और दुरपयोग पर निबंधई-अपशिष्ट पर निबंध
मोबाइल फोन पर  निबंधविज्ञान एक वरदान या  अभिशाप है पर निबंध
मनुष्य बनाम  मशीन पर निबंधमीडिया की भूमिका पर  निबंध
सोशल मीडिया पर  निबंधइंटरनेट एक वरदान है  पर निबंध

Post a Comment

Previous Post Next Post

Most Loved this Week