स्वामी विवेकानंद पर निबंध | Essay on Swami Vivekananda in Hindi | Biography of Swami Vivekananda in Hindi

Essay on Swami Vivekananda in Hindi :  इस लेख में हमने  स्वामी विवेकानंद के जीवन के बारे में जानकारी प्रदान की है। यहाँ पर दी गई जानकारी बच्चों से लेकर प्रतियोगी परीक्षाओं के तैयारी करने वाले छात्रों के लिए उपयोगी साबित होगी।

{tocify} $title={विषय सूची}

स्वामी विवेकानंद पर निबंध: स्वामी विवेकानंद भारत में एक आध्यात्मिक नेता और एक हिंदू भिक्षु थे। वे उच्च विचार के साथ सादा जीवन व्यतीत कर रहे थे। वे महान सिद्धांतों और धर्मपरायण व्यक्तित्व वाले एक महान दार्शनिक थे। वह रामकृष्ण परमहंस के प्रमुख शिष्य थे और उनके दार्शनिक कार्यों में 'राज योग' और 'आधुनिक वेदांत' शामिल हैं। वह कलकत्ता में रामकृष्ण मिशन और रामकृष्ण मठ के संस्थापक थे।

आप  लेखों, घटनाओं, लोगों, खेल, तकनीक के बारे में और  निबंध पढ़ सकते हैं  

स्वामी विवेकानंद पर निबंध

स्वामी विवेकानंद ने शिकागो में धर्म संसद में हिंदू धर्म प्रस्तुत किया जिसने उन्हें प्रसिद्ध बना दिया। उनका व्यक्तित्व भारत और अमेरिका दोनों में अधिक प्रेरक और प्रसिद्ध था। स्वामी विवेकानंद की जयंती 12 जनवरी को हर साल राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाई जाती है। 

स्वामी विवेकानंद का प्रारंभिक जीवन और शिक्षा

स्वामी विवेकानंद का जन्म ब्रिटिश सरकार के दौरान 12 जनवरी 1863 को कलकत्ता में नरेंद्रनाथ दत्त के रूप में हुआ था। वह कलकत्ता में बंगाली परिवार से थे। विश्वनाथ दत्ता एक सफल वकील विवेकानंद के पिता थे। भुवनेश्वरी देवी विवेकानंद की माता थीं, जो एक मजबूत चरित्र, गहरी भक्ति के साथ अच्छे गुण वाली महिला थी। वह एक ऐसी महिला थीं जो भगवान में विश्वास करती थीं और इसका उनके बेटे पर बहुत प्रभाव पड़ा। उन्होंने 8 साल की उम्र में ईश्वर चंद्र विद्या सागर के संस्थान में दाखिला लिया। उसके बाद, उन्होंने कलकत्ता के प्रेसीडेंसी कॉलेज में पढ़ाई की। 1984 में, उन्होंने कलकत्ता विश्वविद्यालय से स्नातक की पढ़ाई पूरी की।

विवेकानंद का जन्म योग प्रकृति के साथ हुआ था, वे हमेशा ध्यान करते थे जिससे उन्हें मानसिक शक्ति प्राप्त होती थी। बचपन से ही उनमें स्मरण शक्ति प्रबल थी, इसलिए वे अपने विद्यालय के सभी शिक्षण को शीघ्रता से समझ लेते थे। उन्होंने इतिहास, संस्कृत, बंगाली साहित्य और पश्चिमी दर्शनशास्त्र सहित विभिन्न विषयों में ज्ञान प्राप्त किया। उन्हें भगवत गीता, वेद, रामायण, उपनिषद और महाभारत जैसे हिंदू शास्त्रों का गहरा ज्ञान था। वह एक प्रतिभाशाली लड़का था और संगीत, अध्ययन, तैराकी और जिमनास्टिक में उत्कृष्ट था।

स्वामी विवेकानंद की रामकृष्ण परमहंस से मुलाकात 

विवेकानंद भगवान को देखने और भगवान के अस्तित्व के बारे में जानने के लिए बहुत उत्सुक थे। जब वे दक्षिणेश्वर में श्री रामकृष्ण से मिले, तो उन्होंने उनसे पूछा कि क्या उन्होंने भगवान को देखा है। उसने उत्तर दिया, 'हाँ मेरे पास है'। मैं ईश्वर को उतना ही स्पष्ट रूप से देखता हूं जितना मैं आपको देखता हूं। रामकृष्ण ने उन्हें बताया कि भगवान हर इंसान के भीतर रहते हैं। इसलिए, अगर हम मानव जाति की सेवा करते हैं, तो हम भगवान की सेवा कर सकते हैं। उनकी दिव्य आध्यात्मिकता से प्रभावित होकर, विवेकानंद ने रामकृष्ण को अपने गुरु के रूप में स्वीकार किया और उसके बाद अपना भिक्षु जीवन शुरू किया।

जब वे साधु बने, तब वे 25 वर्ष के थे और उनका नाम 'स्वामी विवेकानंद' रखा गया। बाद में अपने जीवन में, उन्होंने रामकृष्ण मिशन की स्थापना की, जो धर्म, जाति और पंथ के बावजूद गरीबों और संकटग्रस्त लोगों को स्वैच्छिक सामाजिक सेवा प्रदान कर रहा है। उन्होंने पश्चिमी देशों में हिंदू धर्म के भारतीय दर्शन का भी परिचय दिया और 'वेदांत आंदोलन' का नेतृत्व किया। रामकृष्ण ने अपने शिष्यों से कहा कि वे विवेकानंद को अपने नेता के रूप में देखें और उनकी मृत्यु से पहले 'वेदांत' दर्शन का प्रसार करें। उन्होंने जीवन भर रामकृष्ण का अनुसरण किया और उनकी मृत्यु के बाद उनकी सभी जिम्मेदारियों को निभाया।

स्वामी विवेकानंद की शिकागो यात्रा

1893 में शिकागो में आयोजित विश्व धर्म संसद में भाग लेने के लिए विवेकानंद अमेरिका गए। वहां उन्होंने भारत का प्रतिनिधित्व किया और हिंदू धर्म को एक महत्वपूर्ण विश्व धर्म के रूप में बनाने में मदद की। अपने शिकागो भाषण में, उन्होंने समझाया कि ईश्वर एक है और विभिन्न धर्म समुद्र में समाप्त होने वाली विभिन्न नदियों की तरह हैं। इसलिए, विभिन्न धार्मिक प्रचारकों को आपस में विवाद नहीं करना चाहिए क्योंकि वे विभिन्न रूपों में भगवान की पूजा करते हैं। एक ईश्वर के शाश्वत सत्य को समझने से लोगों के बीच घृणा से बचा जा सकता है।

कई अमेरिकी पुरुषों और महिलाओं के बीच विवेकानंद के विचार को बहुत सराहना मिली। उन्होंने अपने भाषण के माध्यम से दर्शकों को 'अमेरिका की बहनों और भाइयों' के रूप में संबोधित कर सभी का दिल जीत लिया। वे विवेकानंद के शिष्य बन गए और बाद में रामकृष्ण मिशन में शामिल हो गए। उन्होंने कैलिफोर्निया में शांति आश्रम की स्थापना की। उन्होंने सैन फ्रांसिस्को में कई वेदांत सोसायटी की भी स्थापना की। न्यूयॉर्क के समाचार पत्रों के अनुसार उन्हें धर्म संसद में सबसे महत्वपूर्ण व्यक्ति माना जाता था।

स्वामी विवेकानंद के कार्य

विवेकानंद ने अपनी रचनाओं भक्ति योग, माई मास्टर, राज योग आदि से साहित्यिक क्षेत्र में योगदान दिया। उनका आधुनिक वेदांत और राज योग युवाओं की महान प्रेरणा बने। उनकी शिक्षाएं और मूल्यवान विचार भारत की सबसे बड़ी दार्शनिक संपत्ति बन गए। उन्होंने 1897 में अपने गुरु के नाम पर रामकृष्ण मठ और रामकृष्ण मिशन की स्थापना की। उन्होंने बेलूर मठ की भी स्थापना की जिसने विवेकानंद की धार्मिक और आध्यात्मिक शिक्षाओं का प्रसार किया। यह शैक्षिक और सामाजिक कार्यों में भी संलग्न है।

उन्होंने अन्य देशों में रामकृष्ण मिशन की शाखाएँ भी स्थापित कीं। ब्रिटेन की अपनी यात्रा के दौरान उनकी मुलाकात मार्गरेट एलिजाबेथ नोबल से हुई। बाद में वह उनकी शिष्या बन गईं और सिस्टर निवेदिता के नाम से जानी गईं। वह शिकागो में अपने भाषण के कारण विश्व स्तर पर प्रसिद्ध हुए। उनके राष्ट्रवादी विचारों और महान विचारों से कई भारतीय नेता आकर्षित हुए। श्री अरबिंदो ने भारतीय आध्यात्मिकता को जगाने के लिए उनकी प्रशंसा की। महात्मा गांधी ने उन्हें हिंदू धर्म को बढ़ावा देने वाले महान हिंदू सुधारकों में से एक भी कहा।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने भी कहा था, 'विवेकानंद ने पूर्व और पश्चिम, विज्ञान, धर्म, अतीत और वर्तमान में सामंजस्य स्थापित किया, इसलिए वे महान हैं'। वे अपनी शिक्षाओं से युवा मस्तिष्क को आत्म-साक्षात्कार की शक्ति से भरना चाहते थे। इसके अलावा, चरित्र निर्माण, दूसरों की सेवा, आशावादी नज़र, आंतरिक शक्ति की पहचान, अथक प्रयास और बहुत कुछ पर जोर दें। उन्होंने हमें अपने साहसिक लेखन में राष्ट्रवाद का महत्व सिखाया। उन्होंने लिखा, 'हमारी पवित्र मातृभूमि दर्शन और धर्म की भूमि है'। स्वामीजी का प्रसिद्ध उद्धरण है, 'उठो, जागो, दूसरों को जगाओ और तब तक मत रुको जब तक लक्ष्य प्राप्त न हो जाए'। उन्होंने शास्त्रों के सच्चे लक्ष्य और दिव्यता के संदेश का प्रसार किया।

स्वामी विवेकानंद की मृत्यु

स्वामी विवेकानंद ने 4 जुलाई 1902 को बेलूर मठ में अंतिम सांस ली। उन्होंने घोषणा की कि वह 40 वर्ष की आयु तक नहीं पहुंचेंगे। उन्होंने 39 वर्ष की आयु में अपना नश्वर शरीर छोड़ दिया और 'महासमाधि' प्राप्त की। लोगों ने कहा कि वह 31 बीमारियों से पीड़ित थे। उन्होंने भारत के भीतर और बाहर हिंदू धर्म का प्रसार किया।

स्वामी विवेकानंद निबंध पर निष्कर्ष

स्वामी विवेकानंद दुनिया भर के एक महान आध्यात्मिक व्यक्ति और दार्शनिक थे। वह वैश्विक आध्यात्मिकता, सद्भाव, सार्वभौमिक भाईचारा और दुनिया भर में शांति चाहते थे। उनका शिक्षण और दर्शन आज भी मौजूद है और आधुनिक युग के युवाओं का मार्गदर्शन करता है। उनके स्थापित संगठन उनके शिक्षण और दर्शन का प्रसार कर रहे हैं और समाज और राष्ट्र के सुधार के लिए काम कर रहे हैं। उन्होंने वेदांत और कई सामाजिक सेवाओं को बढ़ावा दिया। वह दुनिया के युवाओं के लिए हमेशा प्रेरणास्रोत रहेंगे।

स्वामी विवेकानंद पर निबंध | Essay on Swami Vivekananda in Hindi | Biography of Swami Vivekananda in Hindi

स्वामी विवेकानंद  पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न 1. स्वामी विवेकानंद कौन हैं?

उत्तर: स्वामी विवेकानंद भारत में एक आध्यात्मिक नेता और एक हिंदू भिक्षु थे। वे उच्च विचार के साथ सादा जीवन व्यतीत कर रहे थे। वे महान सिद्धांतों और धर्मपरायण व्यक्तित्व वाले एक महान दार्शनिक थे।

प्रश्न 2. स्वामी विवेकानंद के बचपन का नाम क्या था?

उत्तर : स्वामी विवेकानंद के बचपन का नाम नरेन्द्रनाथ दत्ता था। उन्हें नरेन के नाम से भी जाना जाता था।

प्रश्न 3. स्वामी विवेकानंद के गुरु कौन थे?

उत्तर: रामकृष्ण परमहंस स्वामी विवेकानंद के गुरु थे।

प्रश्न 4. स्वामी विवेकानंद का जन्म कब और कहाँ हुआ था?

उत्तर: स्वामी विवेकानंद का जन्म ब्रिटिश सरकार के दौरान 12 जनवरी 1863 को कलकत्ता में नरेंद्रनाथ दत्त के रूप में हुआ था। वह कलकत्ता में बंगाली परिवार से थे।

प्रश्न 5. रामकृष्ण मठ, बेलूर मठ और रामकृष्ण मिशन के संस्थापक कौन थे?

उत्तर: स्वामी विवेकानंद रामकृष्ण मठ, बेलूर मठ और रामकृष्ण मिशन के संस्थापक थे।

Previous Post Next Post