तराइन के प्रथम युद्ध पर निबंध | First Battle of Tarain Essay in Hindi | 10 Lines on First Battle of Tarain in Hindi

 तराइन के प्रथम युद्ध पर निबंध | First Battle of Tarain Essay in Hindi | 10 Lines on First Battle of Tarain in Hindi

First Battle of Tarain Essay in Hindi :  इस लेख में हमने तराइन के प्रथम युद्ध पर निबंध | First Battle of Tarain Essay in Hindi  के बारे में जानकारी प्रदान की है। यहाँ पर दी गई जानकारी बच्चों से लेकर प्रतियोगी परीक्षाओं के तैयारी करने वाले छात्रों के लिए उपयोगी साबित होगी।

{tocify} $title={विषय सूची}

तराइन के प्रथम युद्ध पर 10 पंक्तियाँ :  मुहम्मद गोरी महमूद गजनी के अनुयायी थे। मुहम्मद गोरी ने मृत्यु के बाद महमूद गजनी के साम्राज्य पर अधिकार कर लिया। साम्राज्य पर नियंत्रण करने के बाद, मुहम्मद गजनी ने खुद को शक्तिशाली शासकों में से एक साबित कर दिया। मुहम्मद गोरी अपने राज्य का विस्तार करना चाहता था। फिर उसने भारत की ओर रुख किया और उसमें कुछ महत्वपूर्ण स्थानों पर कब्जा करने की योजना बनाई। 

उस समय चौहान वंश का पृथ्वीराज चौहान भारत का एक शक्तिशाली शासक था। मुहम्मद गोरी के बारे में जानने के बाद, पृथ्वीराज चौहान ने उससे लड़ने का फैसला किया। अंत में, उसने उसे भारत से बहुत दूर निकाल दिया। मुहम्मद गोरी और पृथ्वीराज चौहान के बीच की लड़ाई तराइन की पहली लड़ाई है।

आप  लेखों, घटनाओं, लोगों, खेल, तकनीक के बारे में और  निबंध पढ़ सकते हैं  

बच्चों के लिए तराइन की पहली लड़ाई पर  10 पंक्तियाँ 

ये पंक्तियाँ कक्षा 1, 2, 3, 4 और 5 के छात्रों के लिए उपयोगी है।

  1. तराइन का प्रथम युद्ध मुहम्मद गोरी और पृथ्वीराज चौहान के बीच हुआ
  2. तराइन का प्रथम युद्ध वर्ष 1191 में हुआ था।
  3. दुनिया भर में कई जगहों पर कब्जा करने के बाद, मुहम्मद गोरी ने भारत में रुचि दिखाई।
  4. पृथ्वीराज चौहान दिल्ली में चौहान वंश के राजा थे। उन्हें मुहम्मद गोरी के दिल्ली की ओर बढ़ने के बारे में पता चला। उस समय, मुहम्मद गोरी ने पहले ही पंजाब के कई हिस्सों पर विजय प्राप्त कर ली थी।
  5. पृथ्वीराज चौहान ने कुछ राजपूतों को एकजुट कर मुहम्मद गोरी के खिलाफ एकजुट रूप पेश किया। तराइन में मुहम्मद गोरी और पृथ्वीराज चौहान के बीच युद्ध हुआ
  6. मुहम्मद गोरी की सेना इतनी मजबूत नहीं थी कि वह पृथ्वीराज चौहान की सेना से लड़ सके।
  7. जब मुहम्मद गोरी अपने घोड़े से गिरने ही वाला था कि उसके एक सैनिक ने उसकी सहायता की।
  8. पृथ्वीराज चौहान की सेना ने मुहम्मद गोरी की सेना के आवश्यक अंग को नष्ट कर दिया।
  9. जब मुहम्मद गोरी अपने घोड़े से गिर रहा था, तो उसका सिपाही उसे युद्ध से दूर ले गया।
  10. अंत में मुहम्मद गोरी की हार हुई। और लड़ाई पृथ्वीराज चौहान के पक्ष में परिणाम के साथ हुई।
तराइन के प्रथम युद्ध पर निबंध | First Battle of Tarain Essay in Hindi | 10 Lines on First Battle of Tarain in Hindi

स्कूली छात्रों के लिए तराइन की पहली लड़ाई पर 10 पंक्तियाँ 

ये पंक्तियाँ कक्षा 6, 7 और 8 के छात्रों के लिए सहायक है।

  1. मुहम्मद गोरी ने मुहम्मद ग़ज़नी की मृत्यु के बाद ग़ौरीद साम्राज्य की नींव रखी।
  2. मुहम्मद गोरी ने भारत में रुचि दिखाई। इसके अलावा, उसने वर्ष 1175 में सिंध पर कब्जा कर लिया।
  3. वर्ष 1178 में, मुहम्मद गोरी ने गुजरात की ओर रुख किया और गुजरात के शासक भीमदेव सोलंकी द्वितीय को हराया।
  4. वर्ष 1186 में मुहम्मद गोरी ने पंजाब की सेना को पराजित किया। साथ ही उसने पंजाब के शासक खुसरू मलिक को भी पराजित किया।
  5. वर्ष 1191 में, मुहम्मद गोरी ने भारत की ओर रुख किया और बठिंडा के किले पर कब्जा कर लिया।
  6. मुहम्मद गोरी ने दिल्ली की ओर रुख किया। पृथ्वीराज चौहान उस समय दिल्ली में शासक थे। पृथ्वीराज चौहान की सेना मुहम्मद गोरी से तराइन नामक स्थान पर मिली।
  7. मुहम्मद गोरी और पृथ्वीराज चौहान के बीच की लड़ाई तराइन की पहली लड़ाई है।
  8. जब गोरी पीछे हट गया और पृथ्वीराज चौहान को जीत दिलाई तो पृथ्वीराज चौहान ने मुहम्मद गोरी की सेना को जारी नहीं रखा।
  9. तराइन के प्रथम युद्ध में पृथ्वीराज चौहान की सफलता के बाद मुहम्मद गोरी को बंदी बना लिया गया। हालाँकि, मुहम्मद गोरी ने दया की भीख माँगी, और पृथ्वीराज चौहान ने एक और मौका दिया और उसे क्षमा कर दिया।
  10. मुहम्मद गोरी अपने साम्राज्य में लौट आया और पृथ्वीराज चौहान से बदला लेने की तैयारी शुरू कर दी।

उच्च वर्ग के छात्रों के लिए तराइन की पहली लड़ाई पर 10 पंक्तियाँ 

ये पंक्तियाँ कक्षा 9, 10, 11, 12और प्रतियोगी परीक्षाओं के छात्रों के लिए सहायक है।

  1. मुहम्मद गोरी और पृथ्वीराज चौहान के बीच की लड़ाई तराइन में तराइन की पहली लड़ाई है। वर्तमान में, यह भारत में हरियाणा के करनाल जिले में है।
  2. मुहम्मद गोरी ने सेना को संगठित किया और भारत पर अधिकार स्थापित करने का निश्चय किया।
  3. पृथ्वीराज चौहान दिल्ली में चौहान वंश के शासक थे। मुहम्मद गोरी ने पृथ्वीराज चौहान के शासनकाल के दौरान वर्ष 1191 में भारत पर आक्रमण किया।
  4. राजपूत सेना मुहम्मद गोरी की सेना से अधिक शक्तिशाली थी। अंत में, पृथ्वीराज चौहान ने मुहम्मद गोरी को हराया। और उसने मुहम्मद गोरी को बंदी बना लिया।
  5. तराइन की पहली लड़ाई से पहले, मुहम्मद गोरी ने एक समझौते के लिए पृथ्वीराज चौहान के पास एक दूत भेजा, लेकिन पृथ्वीराज चौहान ने इससे इनकार कर दिया।
  6. मुहम्मद गोरी की सेना ने पृथ्वीराज चौहान की सेना पर तीर चलाकर युद्ध शुरू किया।
  7. बाद में मुहम्मद गोरी की सेना को पृथ्वीराज चौहान की सेना ने चारों ओर से घेर लिया।
  8. मुहम्मद गोरी घायल हो गया। जब वह अपने घोड़े से गिरने ही वाला था कि उसके एक सैनिक ने उसकी सहायता की। अंत में, मुहम्मद गोरी ने हार स्वीकार कर ली और आत्मसमर्पण कर दिया।
  9. पृथ्वीराज चौहान ने मुहम्मद गोरी की एक संपत्ति जीती और उसे अपनी सेना के सैनिकों में वितरित कर दिया।
  10. कहा जाता है कि पृथ्वीराज चौहान ने मुहम्मद गोरी की सेना को खदेड़ दिया था।

तराइन की पहली लड़ाई पर 10 पंक्तियों पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न 1. तराइन के प्रथम युद्ध में किसने पराजित किया?

उत्तर: तराइन के प्रथम युद्ध में मुहम्मद गोरी की पराजय हुई। यह तराइन में हुआ था।

प्रश्न 2. तराइन का स्थान कहाँ है ?

उत्तर: तराइन का प्रथम युद्ध तराइन  में हुआ था। वर्तमान में, यह भारत के हरियाणा राज्य में है।

प्रश्न 3. तराइन के प्रथम युद्ध में क्या हुआ था?

उत्तर: तराइन का प्रथम युद्ध मुहम्मद गोरी और पृथ्वीराज चौहान के बीच हुआ था। यह वर्ष 1191 में तराइन में हुआ था। मुहम्मद गोरी को पृथ्वीराज चौहान की सेना ने पराजित किया था। अंत में, पृथ्वीराज चौहान ने दया दिखाई और मुहम्मद गोरी की संपत्ति ले ली।

 4. तराइन का प्रथम युद्ध किस वर्ष लड़ा गया था ?

उत्तर: तराइन का प्रथम युद्ध वर्ष 1191 में तराइन में हुआ था।


Post a Comment

Previous Post Next Post