विश्व जल दिवस || World Water Day in Hindi

विश्व जल अथवा जल संरक्षण दिवस, जल के संरक्षण के प्रति जागरुकता पैदा करने के लिए सांकेतिक उपलक्ष्य है, परंतु यह तभी सार्थक हो सकता है जब हम जल के संरक्षण का असली महत्व समझकर उसे अपने जीवन में शामिल करें और उसके प्रति कृतज्ञ रहें।22 मार्च यानि विश्व जल संरक्षण दिवस। प्रत्येक वर्ष, पूरा विश्व और जल संरक्षण के प्रति जागरुकता...इन तीन आधारभूत बिंदुओं पर जल संरक्षण की दिवस की नींव है, लेकिन शायद यह नींव उतनी भी मजबूत नहीं है। पानी का व्यर्थ बहाव इस बात की ओर इशारा करता है।
World Water Day in Hindi


World Water Day in Hindi: हर वर्ष के तरह इस वर्ष भी 22 मार्च के दिन विश्व जल दिवस पर देश भर में तमाम तरह के कार्यक्रमों का आयोजन किया जायेगा। वर्ष 1993 से विश्व भर में मनाये जा रहे इस दिन को आज के समय में भी काफी उत्साह के साथ मनाया जाता है। 1992 में रियो डि जेनेरियो में आयोजित पर्यावरण तथा विकास पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन (UNCED) में विश्व जल दिवस की पहल की गई थी, तथा इसे 21वीं अनुसूची में आधिकारिक रूप से शामिल किया गया था। इसके परिणामस्वरूप 1993 में 22 मार्च को पहली बार “विश्व जल दिवस” का आयोजन किया गया। इसके बाद से हर वर्ष लोगों के बीच जल का महत्व, आवश्यकता और संरक्षण के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिये 22 मार्च को “विश्व जल संरक्षण दिवस” मनाया जाता हैl

विश्व जल दिवस का थीम

संयुक्त राष्ट्र की पर्यावरण तथा विकास एजेंसी द्वारा हर वर्ष विश्व जल दिवस को एक थीम के तहत मनाया जाता हैl वर्ष 2021 के लिए विश्व जल दिवस का थीम “पानी का महत्व" घोषित किया गया हैl इस थीम के जरिए यह बताया जा रहा है कि साफ और स्वच्छ जल सभी का अधिकार है, इससे कोई भी वंचित नहीं रहना चाहिए।

विश्व जल दिवस का महत्व || Importance of World Water Day

हम सभी जानते हैं कि  पानी के बिना जीवन जीवित ही नहीं रहेगा। इसी कारणवश अधिकांश संस्कृतियां नदी के पानी के किनारे विकसित हुई हैं। तभी टी कहते हैं ‘जल ही जीवन है’ का अर्थ सार्थक है। दुनिया में, 99% पानी महासागरों, नदियों, झीलों, झरनों आदि के अनुरूप है। केवल 1% या  इससे भी कम पानी पीने के लिए उपयुक्त है। हालाँकि, पानी की बचत आज की सबसे महत्वपूर्ण आवश्यकता है। केवल पानी की कमी पानी के अनावश्यक उपयोग के कारण है। बढ़ती आबादी और इसके परिणामस्वरूप बढ़ते औद्योगिकीकरण के कारण, शहरी मांग में वृद्धि हुई है और पानी की खपत बढ़ रही है। 

वैश्विक जल संरक्षण के वास्तविक क्रियाकलापों को प्रोत्साहन देने के लिये विश्व जल दिवस को सदस्य राष्ट्र सहित संयुक्त राष्ट्र द्वारा मनाया जाता हैं। इस अभियान को प्रति वर्ष संयुक्त राष्ट्र एजेंसी की एक इकाई के द्वारा विशेष तौर से बढ़ावा दिया जाता है जिसमें लोगों को जल से संबंधित मुद्दों के बारे में सुनने व समझाने के लिये प्रोत्साहित करने के साथ ही विश्व जल दिवस के लिये अंतरराष्ट्रीय गतिविधियों का समायोजन भी शामिल है। इस कार्यक्रम की शुरूआत से ही विश्व जल दिवस पर वैश्विक संदेश फैलाने के लिये थीम (विषय) का चुनाव करने के साथ ही विश्व जल दिवस को मनाने की सारी जिम्मेवारी संयुक्त राष्ट्र की पर्यावरण तथा विकास एजेंसी की हैl

विगत वर्षों में जल दिवस के थीम

वर्षविश्व जल दिवस का थीम
1993शहर के लिये जल
1994 हमारे जल संसाधनों का ध्यान रखना हर एक का कार्य है
1995 महिला और जल
1996 प्यासे शहर के लिये पानी
1997 विश्व का जल: क्या पर्याप्त है
1998 भूमी जल- अदृश्य संसाधन
1999 हर कोई प्रवाह की ओर जी रहा है
2000 22वीं सदी के लिये पानी
2001 स्वास्थ के लिये जल
2002 विकास के लिये जल
2003 भविष्य के लिये जल
2004 जल और आपदा
20052005 - 2015 जीवन के लिये पानी
2006 जल और संस्कृति
2007 जल दुर्लभता के साथ मुंडेर
2008 स्वच्छता
2009 जल के पार
2010 स्वस्थ विश्व के लिये स्वच्छ जल
2011 शहर के लिये जल: शहरी चुनौती के लिये प्रतिक्रिया
2012 जल और खाद्य सुरक्षा
2013 जल सहयोग
2014 जल और ऊर्जा
2015 जल और दीर्घकालिक विकास
2016 जल और नौकरियाँ
2017अपशिष्ट जल
2018 जल के लिए प्रकृति के आधार पर समाधान
2019 किसी को पीछे नही छोड़ना (Leaving no one behind)
2020जल और जलवायु परिवर्तन
2021 पानी का महत्व

विश्व जल दिवस पर आधारित प्रश्न

Q_1. विश्व जल संरक्षण दिवस प्रतिवर्ष किस तिथि को मनाया जाता है?


सही उत्तर है:-C (22 मार्च)



Q_2. UNCED के किस सम्मेलन में विश्व जल दिवस मनाने पर सहमति बनी।


सही उत्तर है:-B (रियो डी जेनेरिओ)



Q_3. सर्वप्रथम जल दिवस किस वर्ष मनाया गया?


सही उत्तर है:-D (1993 में)



Q_4. वर्ष 1993 के लिए जल दिवस का थीम क्या था?


सही उत्तर है:-C (शहर के लिये जल)



Q_5. जल दिवस 2020 की थीम क्या थी?


सही उत्तर है:-A (जल और जलवायु परिवर्तन)



Q_6. जल दिवस 2021 की थीम क्या थी?


सही उत्तर है:-B (पानी का महत्व)



Post a Comment

Previous Post Next Post