प्रकाश का अपवर्तन क्या होता है?

प्रकाश का अपवर्तन

what is refraction of light

अपवर्तन : 

             अलग-अलग माध्यम में अलग-अलग गति होने के कारण, एक माध्यम से दूसरे प्रवेश करने पर प्रकाश अपनी दिशा बदल लेता है जिसे अपवर्तन कहते हैं।

वायु/निर्वात(air/vacuum में प्रकाश की गति- 300000Km/s
काँच(glass) में प्रकाश की गति- 200000km/s


अपवर्तनांक क्या है || What is Refractive index?


अपवर्तनांक : इसे "n'' से प्रदर्शित करते हैं-
               n(माध्यम)= वायु/निर्यात में प्रकाश की गति/माध्यम में    प्रकाश  की गति

• अपवर्तनांक की कोई इकाई नहीं होती। यह केवल एक संख्या
होती है।
. अपवर्तनांक जितना कम होगा पदार्थ उतना ही प्रकाशीय विरल(optically rarer) होगा और जितना अधिक होगा उतना ही प्रकाशीय सघन(optically denser) होगा।


पदार्थअपवर्तनांकअवस्थातापमान
Vacuum(निर्वात)1 (by definition)
हीलियम1.000036गैस(0°C and 1 atm)
Hydrogen1.000132गैस(0°C and 1 atm)
हवा1.000277गड(at STP*)
हवा1.000293गैस(0°C and 1 atm)
Carbon Dioxide1.001गैस(0°C and 1 atm)
तरल हीलियम1.025तरल(at -270°C)
Water Ice1.31तरल(at 0°C)
पानी1.33तरल(at 20°C)
Acetone1.36तरल(at 20°C)
Ethanol1.361तरल(at 20°C)
मिट्टी का तेल1.39तरल(at 20°C)
Corn Oil1.47तरल(at 20°C)
Glycerol1.4729तरल(at 20°C)
Acrylic Glass1.490-1.492ठोस(at 20°C)
Benzene1.501तरल(at 20°C)
Crown Glass (pure)1.50-1.54ठोस(at 20°C)
Plate Glass (window glass)1.52ठोस(at 20°C)
Sodium Chloride (table salt)1.544ठोस(at 20°C)
Amber1.55ठोस(at 20°C)
Polycabonate1.6ठोस(at 20°C)
Flint Glass (pure)1.60-1.62ठोस(at 20°C)
Bromine1.661तरल(at 20°C)
Sapphire1.762-1.778ठोस(at 20°C)
Cubic Zirconia2.15-2.18ठोस(at 20°C)
Diamond2.417ठोस(at 20°C)
Silicon3.42-3.48ठोस(at 20°C)
Germanium4.05-4.01ठोस(at 20°C)

प्रकाश के अपवर्तन के नियम क्या हैं || What are laws of Refraction of light

प्रकाश के अपवर्तन के नियम :

1. आपतित किरण, आपतन बिंदु पर बना अभिलंब और
अपवर्तित किरण सभी एक ही तल में होते हैं।
2 किन्हीं दो निश्चित माध्यमों के लिए आपतन कोण के sine
का अपवर्तन कोण के sine के साथ अनुपात हमेशा स्थिर
रहता है। इस नियम को स्नेल का अपवर्तन नियम भी
कहते हैं।
3. n(दूसरा माध्यम)=sini(पहले माध्यम में)/sinr (दूसरे माध्यम में)
दूसरे माध्यम का पहले माध्यम की तुलना में अपवर्तनांक
लैंसों द्वारा अपवर्तन
यहां i आपतित कोण और r अपवर्तन कोण है।
इस नियम को Snell's Law भी कहते हैं।

Post a Comment

Previous Post Next Post